e payment system | online payment systems | types of electronic payment system in hindi

0
60
electronic payment system

Electronic payment system :

Electronic payment system एक ऐसी पद्धति है जिसमे वस्तु या सेवाओ को खरीदने के लिए  Electronic Transaction का प्रयोग किया जाता है। इसका मुख्य उद्देश्य आसान, सुविधाजनक एवं सुरक्षित भुगतान प्रणाली का निर्माण करना है। इसका उपयोग करके विभिन्न E-Commerce Plate form का payment किया जा सकता है | डिजिटल वर्ल्ड में यह एक अभूतपूर्व बदलाव है जिसने Banking प्रणाली और मानव जीवन को बदल कर रख दिया है |

Types of electronic payment system :

BHIM APP :

  1. BHIM (Bharat Interface for Money) UPI (Unified Payment Interface) पर आधारित National Corporation of India द्वारा विकसित किया।
  2. इसे मानवीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 30 December 2016 को launch किया था।
  3. इसका नाम डॉ. भीमराव अम्बेडकर के नाम पर रखा गया।
  4. यह App बैंक द्वारा प्रत्यक्ष रूप से E-payment की सुविधा प्रदान करता है।
  5. यह UPI app सभी भारतीय बैंक को Support करता है।
  6. BHIM app के द्वारा आप केवल व्यक्ति का Mobile No उपयोग करके  money transfer कर सकते है।
  7. BHIM app तुरंत  money transfer करता है। आप किसी भी समय यहां तक कि छुटियों में और रात-दिन कभी भी  money transfer कर सकते है।
  8. BHIM app आपको किसी समस्या की स्थिति मे  बैंक को कॉल करने हेतु link प्रदान करता है।
  9. इसमे सभी Bank के Customer Care No दिये गये रहते है। BHIM app के द्वारा Scan and Pay सुविधा भी प्रदान करता है।

इसे भी पढ़े : history of internet in hindi | इन्टरनेट का इतिहास


Debit Card / ATM Card :

  1. इस प्रणाली में बैंक अपने ग्राहक को एक कार्ड देता है, जो उनके बैंक एकाउंट से जुडे होते है।
  2. इस कार्ड पर एक युनिक नंबर होता है, तथा उस कार्ड को एक पासवर्ड से सुरक्षित किया जाता है।
  3. जब किसी व्यक्ति को इंटरनेट पर भुगतान करना है, तब वह अपना कार्ड नंबर एवं पासवर्ड डालता है, उसके बाद आवश्यक रकम डालता है। जो रकम उसने डाली है, उतनी रकम उसके एकाउंट से निकलकर दूसरे एकाउंट मे चली जाती है।
  4. इस कार्ड से ग्राहक बैंक के दूसरे कार्य भी कर सकता है। इस कार्ड का प्रयोग कर ग्राहक ATM मशीन से सीधे पैसे निकाल सकता है।

Credit Card :

  1. Credit Card से तात्पर्य उधार के Card से है।
  2. यह Card दिखने मे बिल्कुल  Debit Card की तरह ही होता है। परन्तु इसकी कार्यप्रणाली  Debit Card से भिन्न है।
  3. यह Card Bank के द्वारा प्रत्येक User को Provide नही किया जाता है। यह उन्हीं लोगो को दिया जाता है जो Bank के काफी पुराने या भरोसेमदं Customer है।
  4. जब भी इस Card के माध्यम से भुगतान किया जाता है। तो Bank के  A/C से पैसा उठकर दुकानदार के  A/C मे चला जाता है।
  5. बाद मे उस पैसे को User के द्वारा Bank को ब्याज सहित वापस करना होता है। प्रत्येक Bank के Credit Card के लिए अलग- अलग निती निर्देश होते है। Credit Card की सहायता से ATM से पैसा नही निकाला जा सकता है।

RTGS :

  1. RTGS का मतलब  Real Time Gross Settlement होता है।
  2. RTGS एक स्थान से दूसरे स्थान पर  fund transfer करने का एक electronic माध्यम है। जिसमे fund का transfer Real Time Basis पर होता है।
  3. RTGS का  simple meaning है कोई भी transaction Immediate हो जाता है। जिसे Real Time कहा जाता है।
  4. इसमे आप जैसे ही Beneficiary Customer की  Information correctly fill करके fund transfer करते है तो Immediate ही वह fund transfer होकर  Beneficiary Customer के A/C मे Credit कर दिया जाता है।
  5. इसमे लगभग 30 सेकंड के अंदर transaction पुर्ण हो जाता है।
  6. RTGS के through आप कम से कम 2 लाख रूपये तक transfer कर सकते है और अधिकतम की कोई सीमा नही है।

Steps for Online Method for RTGS :

  1. इसमे भी आपको जिस व्यक्ति को fund transfer करना है उसे payee के रूप मे अपने Account मे add करना होता है और उसके बाद  Bank, Payee की  detail check करता है।
  2. Bank को Payee की detail check करने मे लगभग 12.24 घंटे का समय लगता है।
  3. Bank के द्वारा जब यह Check कर लिया जाता है की Payee की बैंक जानकारी सही है, तो Bank के द्वारा Beneficiary Customer को activate कर दिया जाता है।
  4. जिसके बाद आप उस  Beneficiary Customer को  fund transfer कर सकते है।

Benefits Of RTGS :

  1. अधिक मुल्य में रूपयों की लेन-देन के लिए उपयोगी है।
  2. लगभग 30 सेकंड के अंदर Transaction complete हो जाता है।
  3. समय की बचत होती है।
  4. ज्यादा रकम Transfer करने पर fees कम लगती है।
  5. ज्यादा रकम की लेन-देन में cash का चोरी या दुरूपयोग का खतरा नहीं रहता है।

इसे भी पढ़े : types of cyber attack in hindi – IT Trends


IMPS :

  1. IMPS का  full form Immediate Payment Service है।
  2. यह तुरन्त payment लेन-देन की प्रक्रीया है।
  3. इसमें किसी भी व्यक्ति या संस्था को कम समय में payment उसके बैंक खाते में जमा करवाया जा सकता है।
  4. IMPS एक ऐसी  Banking Payment System सेवा है जिसके तहत आप real time मे पैसे का एक account दूसरे account मे भेज सकते है।
  5. IMPS के माध्यम से पैसे भेजने पर ये तत्काल ही complete हो जाता है, जिससे हमे और ज्यादा इंतजार करने की ज़रूरत नही पड़ती है।

Steps of IMPS :

  1. सबसे पहले अपने Net Banking account पर login करे।
  2. जिस व्यक्ति या संस्था को आप beneficiary के रूप में जोडना चाहते है उसकी सभी bank की जानकारी नाम, अकाउंट नं., IFSC कोड भरकर submit किया जाता है। इसके पश्चात् mobile no. पर एक OTP आता है।
  3. एक बार आपने Beneficiary को add कर लिया, फिर आप details को select कर सकते है और आप जितना amount भेजना चाहते है उसे भरकर जमा कर सकते है।
  4. इसके बाद आपको details Verify करने की ज़रूरत है उसके बाद एक बार फिर सारे details को ध्यान से last time verify कर ले।
  5. Confirm Button पर Click करने से payment ट्रान्सफर हो जाता है।
  6. तुंरत ही पैसे आपके A/C से debit होकर receiver A/C मे credit हो जाएंगे।

Benefits of IMPS :

  1. Instant fund transfer
  2. Easy Process
  3. Security First
  4. Money Transfer Channel
  5. Round the Clock

NEFT :

  1. NEFT का  full form National Electronic Fund transfer होता है। यह RTGS का ही छोटा रूप होता है, जिसमें सामान्यतः कम राशी transfer की जाती है।
  2. जिससे पैसे को एक Bank Account से दूसरे Bank Account मे आसानी से और सुरक्षित रूप से भेजा या प्राप्त किया जाता है।
  3. इस  Fund Transfer की प्रणाली को RBI के द्वारा संचालित किया जाता है। जिसकी शुरूआत सन् 2005 से हुई है ।

NEFT transfer Procedure :

  1. सबसे पहले अपने Net Banking Account  पर login करे। अगर आपके पास Net Banking Account  न हो तब आप उसे अपने Bank की website के माध्यम से register भी कर सकते है।
  2. उसके बाद आपको Beneficiary को payee के हिसाब से add करना होगा। ऐसा करने के लिए आपको Beneficiary के कुछ details भी भरने होगें। जैसे – Account Number,Name,IFSC code , Account Type
  3. एक बार Payee add हो जाये उसके बाद आपको NEFT को und transfer mode के हिसाब से चुनना होगा।
  4. अब आपको Account select करना होता है जहां की आपको पैसे transfer करने है। यहां आपको payee select करना है उसके बाद amount enter करना है।
  5. फिर Submit के पर click करके प्रक्रीया पुर्ण होगी।

Benefits of NEFT :

  1. NEFT के माध्यम से कोई भी Firm, Individual, Corporation बड़े आराम से पैसे एक Account से दूसरे Account तक भेज सकते है।
  2. NEFT मे fees बहुत ही कम होती है।
  3. ये कम राशी वाले लेन-देन के लिए ज्यादा उपयोगी होता है।
  4. यहां पर Receiver को कोई भी अतिरिक्त राशी नही देना होती है।

Payment Gateway (electronic payment system):

  1. Payment Gateway एक ऐसी सेवा है, जिसके माध्यम से किसी E-commerce व्यवसाय करने को ग्राहक द्वारा क्रेडिट कार्ड, डेबिड कार्ड या नेट बैकिंग के माध्यम से भुगतान किया जाता है।
  2. Payment Gateway एक मध्यस्थ सेवा होती है जो व्यवसाय और ग्राहक के बीच होने वाले लेन-देन को bank की सहायता से पुर्ण करती है।
  3. Payment Gateway दोनों पक्षों की ओर से कार्य करता है जिसमें ग्राहक की जानकारी को रखा जाता है।
  4. दोनों पक्षों के बीच सुरक्षित money transfer करवाने की जवाबदारी Payment Gateway की होती है।
  5. PayPal, CC Avenue, PayU money, EBS, VISA और Master Card लोकप्रिय payment gateway में शामिल हैं।

इसे भी पढ़े :Introduction to Cyber Crime in hindi & Types of Cyber Crime – IT Trends


Internet Banking (electronic payment system) :

  1. Internet Banking लेन-देन का वो आधुनिक स्वरूप है जिसमे आपको पारम्परिक Banking सुविधाएं घर बैठे Internet के माध्यम से मिल जाती है |
  2. आप वो तमाम बैंकिग कार्य कर सकते है जो आप बैंक मे जाकर करते है।
  3. जैसे-कॉलेज की fees भरना,  Mobile Payment, Bill जमा करना और recharge करना या Online Shopping के लिए भुगतान और भी ढेरो काम है जो  Internet Banking से किये जा सकते है, वो भी घर बैठे- बैठे ।

Facilities of Internet Banking :

  1. Online Income Tax return भर  सकते  है।
  2. किसी को भी पैसे Transfer कर सकते है।
  3. Online Shopping  करते समय भुगतान कर सकते है।
  4. Online Demand Draft बना सकते है।

Mobile Wallet :

  1. Mobile Wallet किसी Mobile मे खोले जाने वाले  Bank Account की तरह है।
  2. Internet के मदद से बनाए जाने वाले अन्य खातो की तरह यह भी एक Virtual खाता है, जिसमे से पैसे का लेन-देन और Payment कर सकते है।
  3. यह एक Virtual खाता ही है जो आपके Mobile No लेते वक्त दिए गए विवरणों के आधार बनाकर आपके पैसे का लेन-देन करता है |

Example : Paytm, PhonePe , GooglePay, AmazonPay


UPI (Unified Payment Interface) :

  1. UPI एक ऐसा तरीका है जिसकी मदद से आप कही पे भी किसी भी वक्त अपने Bank Account से पैसे transfer कर सकते है।
  2. आप UPI से Payment कर सकते है या फिर अपने बाजार जा कर कुछ खरीदारी की है तो भी आप UPI का इस्तेमाल कर सकते है।
  3. Example :- Taxi का भाड़ा, Movie Ticket के पैसे, Airline Ticket के पैसे,  Mobile Recharge और DTH recharge है।
  4. UPI को शुरू करने की पहल NPCI की तरफ से हुई है NPCI का पूरा नाम National Payments Corporation of India है।

इसे भी पढ़े :