codd rules in dbms in hindi – MS Access | Codd’s 12 rules

0
9
codd rules in dbms in hindi

MS Access – codd rules in dbms in hindi | DCA / PGDCA 1st Sem

codd rules in dbms in hindi : इस पोस्ट के माध्यम से MS Access – codd rules in dbms in hindiको समझाया है यह Subject विशेषकर PGDCA , DCA में पढ़ाया जाता है इस पोस्ट में codd rules in dbms, codd rules, codd rules of rdbms,ms access notes in hindi, dca/pgdca notes, mcu notes के बारे में बताया गया है तो आइये पढ़ते है …

Codd Rules For RDBMS

  • अमेरिकी वैज्ञानिक जे. एफ. कॉड द्वारा RDBMS को परिभाषित करने के लिए नियम बनाये गए, जिनका पालन करने पर ही एक पूर्ण RDBMS बने जा सकता है।

1. Information rule :

  • यह नियम निर्धारित करता है की Data Base में स्टोर करके रखी गयी सभी जानकारी Tables के रूप में होनी चाहिए। प्रत्येक Data की अपनी स्वयं की table cell संख्या होनी चाहिए।

2. Guaranteed Access Rule :

यह नियम कहता है की Data Base में स्टोर रखे गए सभी Data की output में उपलब्धता होनी चाहिए। सभी Data उसके Table Name, Field Name के आधार पर ही प्राप्त हो जाना चाहिए।

3. Systematic Treatment Of NULL Value :

डाटाबेस में आवश्यकता होने पर किसी जानकारी को उस समय पर रिक्त भी रखा जाना पड़ सकता है जिसे NULL Value कहते हैं। जिस भी स्थान पर NULL Value आती है, उसको सही प्रकार से परिभाषित करना चाहिए, जिससे वह अन्य काँकरियों को प्रभावित ना करे।

4. Active Online Catalog :

यह नियम कहता है की Data Base की सम्पूर्ण संरचना एक विवरणिका (Catalog) के रूप में सभी को प्रदर्शित होना चाहिए।

5. Comprehensive Data Sub Language :

यह नियम कहता है की Data Base की स्वयं की एक अपनी language होना चाहिए जिसकी सहायता से User आसानी से Data को उपयोग में ला सके।

6. View Updating Rule :

यह नियम कहता है की User को दिखाए जाने वाले View को यदि आवश्यकता अनुसार परिवर्तन किया जा सकता हो तब यह सुविधा System के द्वारा प्रदान की जानी चाहिए।

7. High Level Insert Update Delete Rule :

यह नियम कहता है की Database में एक साथ बहुत अधिक संख्या में Data को Insert, Update, Delete करने की सुविधा दी जानी चाहिए। ऐसा ना हो की एक बार में एक ही Row पर कार्य हो पाए।

8. Physical Data Independence :

यह नियम कहता है की Database को संचालित करने के लिए बनाये गए प्रोग्राम डाटा के वास्तविक रूप (Physical Structure) से स्वतंत्र होना चाहिए अर्थात Data के Physical store में होने वाले किसी भी परिवर्तन का प्रभाव अप्लिकेशन प्रोग्राम पर नहीं होना चाहिए।

9. Logical Data Independence :

यह नियम कहता है की End User के लिए बनाये गए View हमेशा लोजिकल स्तर के प्रोग्राम से स्वतंत्र होना चाहिए अर्थात प्रोग्राम में किये गए किसी भी परिवर्तन से View पर कोई प्रभाव नहीं पड़ना चाहिए।

10. Integrity Independence :

यह नियम कहता है की डाटा की विश्वसनीयता को बनाये रखने के बनाये गए इंटिग्रिटी नियम से भी Data स्वतंत्र होना चाहिए। इंटिग्रिटी नियमों में होने वाले किसी भी परिवर्तन का प्रभाव Data पर नहीं होना चाहिए ।

11. Distribution Independence :

यह नियम कहता है की Data Base पर एक से अधिक User अलग-अलग स्थान से कार्य करते हैं जिसके लिए Data को वितरित किया जाता है परन्तु इस वितरण के बारे में किसी भी End User को जानकारी नहीं होना चाहिए, उसे यही प्रतीत होना चाहिए की Data केवल उसके द्वारा ही उपयोग किया जा रहा है।

12. Nov Sub Version Rule :

यह नियम कहता है की Data Base पर User को जोड़ने के लिए बनाये गए सभी Application Program का एक ही प्रारूप होना चाहिए, इसका कोई अन्य प्रारूप या संस्करण नहीं बनाना चाहिए।

इसे भी पढ़े :