Important Fact of Computer Network | कंप्यूटर नेटवर्क

0
19
Important Fact of Computer Network

कंप्यूटर नेटवर्क / Computer Network:

Computer Network : कंप्यूटर नेटवर्क से सम्बंधित कुछ महत्वपूर्ण फेक्ट जो आपके सामान्य ज्ञान हेतु आवश्य है, को जानने के लिये लिखे पोस्ट को एक बार जरुर पढ़े |

नेटवर्क परिचय :

  • नेटवर्क आपस में एक-दूसरे से जुड़े कंप्यूटरों का समूह है ।
  • जो एक-दूसरे से संचार स्थापित करने तथा सूचनाओं, संसाधनों को सांझा इस्तेमाल करने में सक्षम होते हैं, जैसे—प्रिंटर |
  • किसी भी नेटवर्क को स्थापित करने के लिए Sender,Reciever, Media तथा  Protocol की आवश्यकता होती है ।
  • विश्व का प्रथम Computer Network ARPANET है |

प्रोटोकॉल :

  • प्रोटोकॉल किसी भी नेटवर्क में विशेष नियमों तथा मानकों का समूह है ।
  • जिसके नियमानुसार डेटा स्थानान्तरण तथा आपस में एक से दूसरे कंप्यूटरों को जोड़ा जाता है |

नोड  :

  •  किसी नेटवर्क में नोड एक कनेक्शन प्वाइंट है  ।
  •  जहां डेटा ट्रांसमिशन का अंत होता है या वहां से पुनः डेटा का वितरण होता है |

सर्वर :

  • सर्वर मुख्य कंप्यूटर है जो नेटवर्क से जुड़े दूसरे कंप्यूटरों को रिसोर्सेस प्रदान करता हैं।
  • यह नेटवर्क में सबसे महत्त्वपूर्ण तथा शक्तिशाली कंप्यूटर है ।
  • सर्वर एक सेन्ट्रल कंप्यूटर है जो बहुत सारे PCs, वर्कस्टेशन्स और अन्य कंप्यूटरों के लिए डेटा और प्रोग्रामों के संग्रह को होल्ड करता है

टर्मिनल :

  •  यह मेनफ्रेम या सुपर कंप्यूटर के संसाधनों का साझा इस्तेमाल के लिए उपयोग होता है ।
  •  यह नगण्य इंटेलिजेंस वाला कंप्यूटर है|

नेटवर्क के लिए आवश्यक उपकरण :

नेटवर्क स्थापित करने के लिए मुख्य उपकरण निम्न हैं:

  • रिपीटर (Repeater)
  • हब (Hub)
  • स्विच (Switche)
  • राउटर(Router)
  • गेटवे (Gateway)

types of networks / नेटवर्क के प्रकार :

  •  लोकल एरिया नेटवर्क (LAN) या स्थानीय क्षेत्र नेटवर्क
  •  मेट्रोपोलिटन एरिया नेटवर्क (MAN) या महानगरीय क्षेत्र नेटवर्क
  •  वाइड एरिया नेटवर्क (WAN) या व्यापक क्षेत्र नेटवर्क

LAN :

  •  यह एक नेटवर्क है, जिसके अंदर छोटे भौगोलिक क्षेत्र, जैसे—घर, ऑफिस, भवनों का एक छोटा समूह या हवाई अड्डा आदि में कंप्यूटर नेटवर्क है ।
  •  वर्तमान लैन ईथरनेट तकनीक पर आधारित है |
  •  इस नेटवर्क का आकार छोटा, लेकिन डेटा संचारण की गति तीव्र होती है |

MAN :

  •  MAN दो या दो से अधिक लोकल एरिया नेटवर्क को जोड़ता है ।
  •  यह शहर की सीमाओं के भीतर स्थित Computer Network है ।
  •  राउटर्स, स्विच और हब्स मिलकर एक MAN का निर्माण करते हैं |

WAN :

  • इस Computer Network में कंप्यूटर आपस में लीज्ड लाइन या स्विचड सर्किट के द्वारा जुड़े रहते हैं ।
  • यह नेटवर्क व्यापक भौगोलिक क्षेत्र  में फैला नेटवर्क का जाल है ।
  • बैंकों द्वारा प्रदत्त ATM सुविधा वाइड एरिया नेटवर्क का उदाहरण है |

network topology / नेटवर्क टोपोलॉजी :

नेटवर्क टोपोलॉजी विभिन्न नोड्स या टर्मिनल को आपस में जोड़ने का तरीका है। यह विभिन्न नोड्स के बीच भौतिक संरचना को दर्शाता है, नेटवर्क टोपोलॉजी के प्रकार निम्न हैं :

मेस (Mesh) टोपोलॉजी  :

  •  यह नेटवर्क उच्च ट्रैफिक की स्थिति में मार्ग (routes) को ध्यान में   रखकर उपयोग किया जाता है |
  •  इन्टरकनेक्टेड मेस नेटवर्क खर्चीला है |
  •  इस नेटवर्क में उच्च सुरक्षा अनुप्रयोग में डेटा प्रेषित किया जाता है|
  •  इसमें ज्यादा केबल तथा हर नोड में इंटेलिजेंस की आवश्यकता   होती है ।

स्टार (Star) टोपोलॉजी  :

  •  इस नेटवर्क में एक केंद्रीय नोड होता है जो इंटेलिजेंस से युक्त होता है ।
  •  इस केंद्रीय नोड को हब कहते हैं |
  •  कोई एक केबल में कुछ कठिनाई आने पर एक ही नोड विफल होता है ।
  •  अगर हब में कोई कठिनाई आती है तो सारा नेटवर्क विफल हो जाता है ।

रिंग (Ring) टोपोलॉजी :

  •  इस नेटवर्क में सभी नोड्स में समान रूप से इंटेलिजेंस होती है |
  •  डेटा का प्रवाह हमेशा एक ही दिशा में होता है |
  •  किसी भी एक केबल या नोड में कठिनाई आने पर दूसरे दिशा से संचार संभव है ।

 बस (Bus) टोपोलॉजी  :

  • इस नेटवर्क में सभी नोड्स एक ही केबल से जुड़े रहते हैं |
  • कोई भी नोड किसी दूसरे नोड को डेटा प्रेषित करना चाहता है, तो उसे देखना होता है कि बस में कोई     डेटा प्रवाहित तो नहीं हो रहा है |
  • डेटा प्राप्त करने के लिए हर नोड के पास इतनी इंटेलिजेंस होनी चाहिए कि वह बस से अपना   पता ज्ञात कर डेटा प्राप्त कर सकें |
  • इसमें कम केबल की आवश्यकता होती है तथा कोई नया नोड जोड़ना आसान होता है |
  • प्रमुख ट्रांसमिशन लाइन में कठिनाई आने पर सारा नेटवर्क विफल हो जाता है |

मॉडुलेशन :

  •  मॉडुलेशन डिजिटल सिग्नल को एनालॉग रूप में बदलने की प्रक्रिया है |
  •  मोडेम एक विद्युत यंत्र है जो डिजिटल सिग्नल को एनालॉग सिग्नल में बदलकर भेजता है ।
  •  आयाम (Amplitude) मॉडुलेशनः इस प्रक्रिया में वाहक सिग्नल का आयाम सूचना युक्त डिजिटल सिग्नल के अनुरूप बदला जाता है|
  • आवृत्ति (Frequency) मॉडुलेशनः  इस प्रक्रिया में वाहक सिग्नल की आवृत्ति को सूचना युक्त  डिजिटल सिग्नल के अनुरूप बदला जाता है |
  • चरण (Phase) मॉडुलेशनः इस प्रक्रिया में वाहक सिग्नल के फेज (phase) को डिजिटल सिग्नल के अनुरूप बदला जाता है|

डेटा ट्रांसमिशन सेवा :

Data को एक स्थान से दूसरे स्थान भेजने के लिए जिस सेवा का उपयोग होता है उसे डेटा ट्रांसमिशन सेवा कहते हैं ।  इस सेवा को देने वाले को डेटा ट्रांसमिशन सेवा प्रदाता (Data Transmission Service Provider) कहते हैं |

डेटा ट्रांसमिशन सेवा निम्न है:

डायल अप लाइन (Dialup Line) :

  •  डायल अप लाइन टेलीफोन कनेक्शन से संबंधित है ।
  •  इसका उपयोग टेलीफोन की तरह नम्बर डायल कर संचार स्थापित करने में किया जाता है |
  •  इसे कभी-कभी स्विच्ड लाइन भी कहा जाता है ।
  •  ब्राडबैंड तकनीक भी डायल अप कनेक्शन के द्वारा ही उपयोग होता है |

डिजिटल सब्सक्राइबर लाइन :

  •  यह एक high speed इंटरनेट सेवा है जो केबल के माध्यम से ऑन लाइन  सुविधा प्रदान करता है ।
  •  DSL डायल अप सेवा की तरह ही कॉपर टेलीफोन लाइन का उपयोग करता है|
  •  यह डायल अप सेवा से काफी तेज स्पीड प्रदान करता है।
  •  DSL सेवा के लिए DSL मोडेम की आवश्यकता होती है जो टेलीफोन लाइन    तथा कंप्यूटर को जोड़ता है |

लीज्ड लाइन (Leased Line) :

  •  लीज्ड लाइन आवाज और डेटा दूरसंचार सेवा के लिए दो स्थानों को जोड़ती है |
  •  यह कम या ज्यादा दोनों दूरी में संभव है |
  •  इसका सबसे अधिक उपयोग उद्योगों द्वारा अपने शाखा कार्यालयों को जोड़ने के लिए किया जाता है |
  •  यह नेटवर्क ट्रैफिक के लिए बैंडविड्थ की गारंटी देता है |

एकीकृत सेवा डिजिटल नेटवर्क(ISDN) :

  •  एकीकृत सेवा डिजिटल नेटवर्क सर्किट स्विच्ड टेलीफोन नेटवर्क के माध्यम से आवाज, डेटा और छवि का स्थानान्तरण है |
  • इस सेवा के अंतर्गत आवाज, डेटा या छवि डिजिटल रूप में भेजा  जाता है |

इसे भी पढ़े :