Use of Internet | इंटरनेट के उपयोग | Fact of Internet

0
32
Use of Internet

इंटरनेट के महत्वपूर्ण तथ्य :

Use of Internet : इंटरनेट इंटरनेशनल नेटवर्किंग (International Networking) का संक्षिप्त रूप है, इंटरनेट नेटवर्कों का नेटवर्क है, किसी कंप्यूटर को इंटरनेट से जोड़ने के लिए  इंटरनेट सेवा प्रदाता (ISP) की सेवा लेनी पड़ती है, टेलीफोन लाइन के माध्यम से कंप्यूटर को इंटरनेट सेवा प्रदाता के सर्वर से  जोड़ा जाता है |

भारत में इंटरनेट का विकास ( Internet Development in India ) :

  • इंटरनेट सेवा का प्रारंभ —15 अगस्त, 1995
  • इंटरनेट सेवा प्रारंभ करने वाली निजी कंपनी— सत्यम इंफो वे (1998)
  • भारत की नई इंटरनेट नीति का नाम— डेटा इन इंटरनेट डोमेन
  • इंटरनेट उपलब्ध कराने वाली पहली कम्पनी— विदेश संचार निगम लिमिटेड (VSNL)
  • एमटीएनएल (MTNL) की ब्राडबैंड सेवा का नाम— ट्राई बैंड (Tri Band)
  • बीएसएनएल की ब्राडबैंड सेवा का नाम— डेटा वन (Data One)

Use of Internet / इंटरनेट के उपयोग :

  •  इलेक्ट्रॉनिक मेल (E-Mail) : इसे ई-मेल या इंटरनेट मेल भी कहा जाता है ।
  •  फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल (FTP) : इसके द्वारा किसी भी फाइल को स्थानांरित किया जा सकता है |
  •  टेलनेट (Telnet) : इस सुविधा से किसी स्थानीय कंप्यूटर द्वारा इंटरनेट से जुड़े दूरस्थ कंप्यूटर पर कार्य तथा उसके संसाधनों का उपयोग किया जा सकता है। इसे ‘रिमोट लॉग इन’ कहा जाता है।
  •  यूजनेट (Usenet): इस सेवा का प्रयोग लोगों के समूह द्वारा अपनी पसंद के विषय पर अपनी राय या सूचना देने के लिए किया जाता है ।
  •  वर्ल्ड वाइड वेब (World Wide Web): यह एक प्रकार का डेटा बेस है जिसकी सहायता से इंटरनेट पर सूचनाएं प्राप्त की जा सकती हैं ।
  • ई-कॉमर्स (E-commerce): इंटरनेट के माध्यम से आपस में संपर्क कर वस्तुओं तथा सेवाओं का क्रय-विक्रय ई-कामर्स कहलाता है |

Other use of internet / इंटरनेट के अन्य उपयोग :

  •  Chatting
  •  Video Conferencing
  •  Online Shopping
  •  Entertainment

इंटरनेट से संबंधित कुछ शब्दावलियां:

  • Surfing : इंटरनेट पर आवश्यक सूचना प्राप्त करने के लिए अपने पसंदीदा स्थान या साइट को खोजना ।
  • TCP/IP (Transimission Control Protocol/Internet Protocol) : यह इंटरनेट उपयोग के लिए बनाया गया प्रोटोकाल है जो दो नोड के बीच संचार और सूचना स्थानांतरण को व्यवस्थित बनाता है। एक कंप्यूटर का दूसरे कंप्यूटर के साथ संपर्क स्थापित करने के लिए बनाए गए नियमों के समूह को इंटरनेट प्रोटोकॉल (IP) कहा जाता है ।
  •  URL (Uniform Resource Locator) : इंटरनेट पर प्रत्येक वेब पेज का एक    निश्चित पता होता है जिसे यूआरएल कहते हैं |
  •  IP Address : नेटवर्क में सर्वर और उससे जुड़े प्रत्येक नोड को एक पहचान कोड दिया जाता है जो आईपी एड्रेस कहलाता है।
  •  Gateway : गेटवे उस कंप्यूटर को कहते हैं, जो दो भिन्न-भिन्न नेटवर्कों से जुड़े कंप्यूटर से जुड़ा रहता है ।
  •  HTTP (Hyper Text Transfer Protocol) : यह इंटरनेट पर प्रयुक्त प्रोटोकाल है जो वेब पेज के प्रारूप तथा प्रसारण को निर्धारित करता है ।
  •  Network : यह दो या अधिक कंप्यूटर का समूह है |
  •  Spam : इंटरनेट पर ई-मेल का प्रयोग कर अवांछित विज्ञापन को  दूसरे कंप्यूटर पर भेजना स्पैम कहलाता है |
  • Multimedia:   किसी सूचना की प्रस्तुति में एक साथ एक से अधिक माध्यमों का प्रयोग मल्टीमीडिया कहलाता है , जैसे— शब्द (text) , रेखाचित्र  (graphics), एनिमेशन (animation) , श्रव्य (audio) या दृश्य (video)   आदि |
  • Virus : वायरस जान-बूझकर लिखा गया प्रोग्राम है जो कंप्यूटर के डेटा को क्षतिग्रस्त करते हैं।
    •    वायरस को मुख्यतः तीन भागों में बांटा जाता हैः
    •    प्रोग्राम वायरस (Program Virus)
    •   बूट वायरस (Boot Virus)
    •   मल्टीपार्टाइट वायरस (Multipartite Virus)

इसे भी पढ़े :