What is VPN and Why VPN used | Type of VPN – In Hindi

1
134
vpn

VPN का इस्तेमाल क्यों करते हैं?

What is VPN : आज के समय में security बहुत महत्वपूर्ण हो गयी है vpn हमें एनक्रिप्टेड कनेक्शन provide करता है vpn का फुल फॉर्म virtual private network है। अधिकतर इसका use पब्लिक इंटरनेट जैसे कम सुरक्षित नेटवर्क में किया जाता है। यह सेंड के अंत में डेटा एन्क्रिप्ट करने के लिए टनलिंग प्रोटोकॉल का प्रयोग किया जाता है, तथा डाटा को प्राप्त अंत में डिक्रिप्ट किया जाता है। ऑनलाइन गतिविधियों के लिए व्यवस्थित सुरक्षा देने के लिए नेटवर्क एड्रेस की उत्पत्ति व प्राप्त करने को भी एन्क्रिप्ट किया जाता है। जिसका प्रयोग दूरस्थ कर्मचारियों, गिग इकोनॉमी फ्रीलांस वर्कर्स व बिज़नेस ट्रैवलर को मालिकाना नेटवर्क पर होस्ट किए गए सॉफ़्टवेयर एप्लिकेशन तक पहुंच प्रदान करने के लिए भी उपयोग किया जाता है।

उपयोगकर्ता वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क ऐप का उपयोग करके वि. पि. एन. के माध्यम से प्रतिबंधित संसाधन तक पहुंच जाता है । एक या उससे अधिक प्रमाणीकरण कारक प्रदान करने होते है । यहा पासवर्ड, सिक्योरिटी टोकन या बायोमेट्रिक डेटा हो सकते हैं। mobile पर डाटा प्रसारण को सिक्योर रखने के लिए vpn app का use किया जाता है परन्तु , मोबाइल वि. पि. एन. के माध्यम से सिक्योर पहुंच प्राइवेट ब्राउज़िंग के साथ कंफ्यूज नहीं होनी चाहिए। प्राइवेट ब्राउज़िंग में एन्क्रिप्शन शामिल नहीं होता है; यह केवल एक ऑप्शनल ब्राउज़र सेटिंग है जो पहचानने योग्य users के डेटा को एकत्र होने से रोकता है।

एक VPN कैसे काम करता है :

वि. पि. एन. बेसिक लेवल पर टनलिंग पॉइंट-टू-पॉइंट कनेक्शन बना सकता है जिसे unauthorized users द्वारा एक्सेस नही कर सकता है। सच में सुरंग क्रिएट के लिए, एंडपॉइंट डिवाइस को लोकल या क्लाउड में VPN क्लाइंट चलाने की जरुरत होती है। क्लाइंट बैकग्राउंड में कार्य करता है। यह अंतिम उपयोगकर्ता के लिए noticeble नहीं है, जहाँ प्रदर्शन के मुद्दे न हों। प्रदर्शन कई तरीको से इफ़ेक्ट हो सकता है, उदाहरण के लिए उपयोगकर्ताओं के इंटरनेट कनेक्शन की स्पीड, प्रोटोकॉल टाइप जो एक इंटरनेट प्रोवाइडर use कर सकता है, और एन्क्रिप्शन का use करता है। संगठन के सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) विभाग के कंट्रोल के बाहर सर्विस की खराब गुणवत्ता से प्रदर्शन भी प्रभावित हो जाता है।

VPN प्रोटोकॉल :

VPN प्रोटोकॉल कनेक्टेड सिस्टम को बेहतर लेवल की सुरक्षा प्रदान करते हैं, जब अंतर्निहित नेटवर्क इन्फ्रास्ट्रक्चर इसे प्रदान नहीं कर पता है। users और कॉर्पोरेट डेटा को सिक्योर और एन्क्रिप्ट करने के लिए भिन्न भिन्न प्रोटोकॉल हैं। जिसमे उपस्थित है:

  • आईपी सुरक्षा (IPsec) सुरक्षित सॉकेट लेयर (एसएसएल) व ट्रांसपोर्ट लेयर सिक्योरिटी (टीएलएस)
  • पॉइंट-टू-पॉइंट टनलिंग प्रोटोकॉल (PPTP)
  • परत 2 टनलिंग प्रोटोकॉल (L2TP)
  • OpenVPN

VPN के तरिके :

जब VPN को लागु करने है तो नेटवर्क एडमिनिस्ट्रेटर के पास कई आप्शन होते हैं। जिनमे है:

1. रिमोट एक्सेस VPN :

रिमोट एक्सेस क्लाइंट ऑर्गेनाइजेशन के नेटवर्क पर एक VPN गेटवे सर्वर से कनेक्ट होते हैं। गेटवे को इंटरनल नेटवर्क रिसोर्सेज तक पहुंच देने से पहले डिवाइस को अपनी आइडेंटिटी प्रमाणित करने की जरुरत होती है। यह तरिका सामान्य रूप से कनेक्शन को सिक्योर करने के लिए या तो आईपी सिक्योरिटी (IPsec) या सिक्योर सॉकेट्स लेयर (SSL) पर डिपेंड रहता है।

2. साइट-टू-साइट VPN :

इसके अपोजिट साइट-टू-साइट VPN एक गेटवे डिवाइस का use एक जगह से नेटवर्क को दूसरे जगह पर एक नेटवर्क से कनेक्ट करने के लिए करता है। दूरस्थ स्थान पर एंड-नोड डिवाइस को वि. पि. एन. क्लाइंट की जरुरत नहीं होती है क्योंकि वहा पर गेटवे कनेक्शन को कंट्रोल करता है। इंटरनेट का उपयोग करने वाले अधिकतर साइट-टू-साइट VPN IPsec का use करते हैं। पब्लिक इंटरनेट के बजाय साइट से साइट वि. पि. एन. के लिए व्हीकल के रूप में वाहक MPLS क्लाउड का use करना उनके लिए भी आसान है। बेस ट्रांसपोर्ट पर कार्य करने वाली लेयर 3 कनेक्टिविटी (एमपीएलएस आईपी वि. पि. एन. ) व लेयर 2 (वर्चुअल प्राइवेट लैन सर्विस) भी हो सकती है।

3. मोबाइल VPN :

मोबाइल VPN में, सर्वर अभी भी कंपनी के नेटवर्क पर ध्यान रखता है, जिससे प्रमाणित, रिज़र्व क्लाइंट द्वारा सिक्योर टनल पहुँच को कैपेबल किया जाता है। मोबाइल वि. पि. एन. सुरंगें फिजिकल आईपी एड्रेस से जुड़ी नहीं होती हैं। इसके अलावा , प्रत्येक सुरंग एक लॉजिकल आईपी एड्रेस के लिए रूकावट उत्पन्न करता है। यह लॉजिकल IP एड्रेस मोबाइल डिवाइस से चिपक जाता है,जो कहीं भी घूमता हो। एक इफेक्टिव मोबाइल VPN users को कंटिन्यू सर्विस प्रदान करता है, और एक्सेस टेक्नोलॉजीज व कई पब्लिक और प्राइवेट नेटवर्क पर स्विच कर सकता है।

4. हार्डवेयर VPN :

हार्डवेयर VPN सॉफ्टवेयर बेस्ड विभिन्न लाभ प्रदान करते हैं। ज्यादा सुरक्षा के बाद भी , हार्डवेयर VPN बड़े क्लाइंट लोड के लिए वेट बराबर प्रदान कर सकते हैं। एडमिनिस्ट्रेटर को वेब ब्राउज़र इंटरफ़ेस के माध्यम से प्रबंधित किया जा सकता है। एक हार्डवेयर वि. पि. एन. सॉफ्टवेयर-based की तुलना में ज्यादा एक्सपेंसिव है। लागत के कारण, हार्डवेयर वि. पि. एन. बड़े बिज़नेस के लिए ज्यादा व्यावहारिक हैं। आयरिश सेल्समेन InvizBox के अलावा कई सेल्समेन , ऐसे डिवाइस प्रस्तुत करते हैं जो हार्डवेयर VPN के रूप में कार्य कर सकते हैं।

5. VPN एप्लायंस :

एक VPN एप्लायंस, जिस गेटवे एप्लायंस के रूप में भी जाना जाता है, यह एक नेटवर्क डिवाइस है जो सिक्योरिटी सर्विस को बढ़ाता है। SSL (सिक्योर सॉकेट्स लेयर) VPN एप्लायंस के रूप में भी जाना जाता है, यह एक राउटर है जो वि. पि. एन. के लिए security ऑथेंटिकेशन , औथोरिज़ व एन्क्रिप्शन प्रदान करता है। डायनामिक मल्टीपार्ट वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (DMVPN) एक गतिशील मल्टीपॉइंट वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (DMVPN) एक ऑर्गेनाइजेशन के हेड ऑफिस VPN सर्वर व राउटर से गुजरने की जरुरत के बिना वेब साइटों के मध्य डेटा का आदान-प्रदान करता है।

DMVPN एक VPN सर्विस बनाता है जो वि. पि. एन. राउटर्स व फ़ायरवॉल कंसंट्रेटर्स पर कार्य करता है सभी दूरस्थ साइट में कंपनी के होस्ट डिवाइस (हब) से कनेक्ट करने के लिए एक राउटर कॉन्फ़िगर किया जाता है, जो प्रोवाइड रिसोर्सेज तक पहुंच प्रदान करता है। जब दो लोगो को एक दूसरे के मध्य डेटा का आदान-प्रदान करने की जरुरत होती है – एक वीओआईपी टेलीफोन कॉल के लिए, example के लिए – स्पोक हब से संपर्क करेगा, दूसरे छोर के बारे में आवश्यक जानकारी ले गा , तथा उनके मध्य सीधे एक गतिशील IPsec VPN बनाएगा।

6. VPN रीकनेक्ट :

VPN रीकनेक्ट विंडोज 7 व विंडोज सर्वर 2008 R2 की एक गुण है जो एक वास्तविक प्राइवेट नेटवर्क कनेक्शन को इंटरनेट सर्विस के कम समय के दौरान ओपन रहने की परमिशन देता है। सामान्यतया , जब VPN कनेक्शन का use करने वाला कंप्यूटिंग डिवाइस इंटरनेट कनेक्शन lost हो जाता है, तो लास्ट user को मैन्युअल रूप से वापिस कनेक्ट करना पड़ता है। रीकनेक्ट करने योग्य टाइम के लिए उसे को ओपन रखता है। इस प्रकार , जब इंटरनेट सर्विस एग्जिट हो जाती है, तो वि. पि. एन. कनेक्शन आटोमेटिक रूप से भी एग्जिट हो जाता है। यह सुविधा मोबाइल एम्प्लोय्स के लिए चलाने में सुधार करने के लिए डिज़ाइन की गई थी।

इसे भी पढ़े :