What is Wi-Fi and Li-Fi | वाई-फाई और लाई-फाई -क्या है

1
102
What is Wi-Fi and Li-Fi

Wi-Fi and Li-Fi  :

What is Wi-Fi and Li-Fi : अब तक ह Wireless Network Create करने के लिये वा Wi-Fi Technique का use कर रहे थे, किन्तु Technology बदलने में देर नहीं लगती है, एक नई Technology Li-Fi अब आ चुकी है, Li-Fi की Speed Wi-Fi के मुकाबले 1000 गुना तेज है –

Wi-Fi :

वाईफाई क्या है इसका अर्थ क्या है WI-FI का पूरा नाम WI-FI फिडेलिटी है इस शब्द को ब्रांडिंग कंपनी के द्वारा बताया गया था, तथा यह इसके शोर्ट नाम से ज्यादा प्रसिद्ध हुआ ।

WI-FI IEEE 802.11 मानकों के बेस पर टूल्स के रेडियो वायरलेस लोकल एरिया नेटवर्किंग के लिए यह technology ज्यादा उपयोग की जाती है |

इसे विध्युत और इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियर्स संस्थान (IEEE) LAN (local area network) / MAN (metropolitian area network) मानक समिति (IEEE 802) के द्वारा बनाए रखा है।

इसका IEEE 802.11 स्टैण्डर्ड का पहला version 1997 में बना कर release किया गया था,परन्तु इसे 1995 में ही बना लिया गया था तथा अमेरिकी संघीय संचार आयोग द्वारा बिना लाइसेंस के इस्तेमाल के लिए आईएसएम बैंड को release किया गया था।

आज के समय में , IEEE 802.11 मानकों के कई मॉडिफाइड version उपयोग में लाये जाते है , जो IEEE 802.11 हार्डवेयर की संगतता के लिए संभव है।

वाईफाई कैसे अपना कार्य करता है :

ट्रेडिशनल ट्रांजिस्टर रेडियो की तरह ही , वाईफाई नेटवर्क रेडियो तरंगों का उपयोग कर हवा पर इनफार्मेशन भेजता है, जो कि अवरक्त प्रकाश के मुकाबले में ज्यादा समय तक विद्युत चुम्बकीय स्पेक्ट्रम में तरंग दैर्ध्य के साथ विद्युत चुम्बकीय विकिरण का एक तरह से प्रकार है।

वाईफाई रेडियो तरंगों 2.4 ghz (गीगाहर्ट्ज़) या 5.8 ghz (गीगाहर्ट्ज़) की आवृत्ति होती है। दो वाईफाई फ़्रीक्वेंसी बैंड्स को उसके अनुसार कई चैनलों में डिवाइड करता है, सभी प्रकार के चैनल को भिन्न भिन्न network पर शेयर करते है ।

वाईफाई नेटवर्क के द्वारा एक फाइल डाउनलोड करते हैं, तो वायरलेस राउटर के रूप में पहचाने जाने वाला एक टूल्स पहले आपके ब्रॉडबैंड इंटरनेट कनेक्शन के माध्यम से इंटरनेट से डेटा प्राप्त करता है और फिर रेडियो तरंगों में बदल देता है।

वायरलेस राउटर पास के क्षेत्र में रेडियो तरंगों का उत्सर्जन करता है, तथा वायरलेस डिवाइस जिससे डाउनलोड के लिए रिक्वेस्ट किया है , उसे कैप्चर करता है एवं डिकोड करता है। जेसा की हम जानते है वाईफाई रेडियो तरंगों पर कार्य करता है|

वाईफाई नेटवर्क को भिन्न भिन्न वाईफाई नेटवर्क और भिन्न भिन्न इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों ट्रांजिस्टर रेडियो, माइक्रोवेव ओवन, रेफ्रिजरेटर, टीवी, ब्लूटूथ, ताररहित टेलीफोन उपकरणों के कारण होने वाले कार्यो से रोका जा सकता है।

अच्छा WI-FI देने के लिए , नेटवर्क प्रशासक वाईफाई कनेक्शनों की प्रबंधन व समस्या के हल के लिए नेट एक्सपोट वाईफाई विश्लेषक पर विश्वास किया जाता हैं। नेटस्पॉट वाईफाई नेटवर्क सिग्नल की कमजोरी के क्षेत्रों को बता सकता है तथा और जो भी प्रॉब्लम आ रही है उन्हें बताता है ।

Li – Fi :

वायरलेस Li-Fi ऑप्टिकल नेटवर्किंग तकनीक है LI-FI डेटा आदान – प्रदान करने के लिए प्रकाश उत्सर्जक डायोड का इस्तेमाल करती है। LI-FI का use लाइट बल्ब के लिए भी किया जाता है |

जिन्हें वर्तमान में घरों व कार्यालयों में use किया जा रहा है । LI-FI बल्ब को चिप के साथ बनाया जाता हैं जिसका उपयोग ऑप्टिकल डेटा ट्रांसमिशन के लिए प्रकाश को आसानी से व बिना परेशानी के control कर सकते है।

LI-FI फोटोरिसेप्टर के द्वारा प्राप्त किया जाता है। LI-FI के प्रारंभिक विकासात्मक मॉडल 150 मेगाबिट-प्रति-सेकंड (MBPS ) में capable थे। इस गति को सक्षम बनाने के लिये कुछ वाणिज्यिक किट बनाये गये ।

प्रयोगशाला में, बेहतर एल ई डी और भिन्न भिन्न प्रौद्योगिकी , शोधकर्ताओं ने 10 गीगाबिट्स-प्रति-सेकंड (Gbps) बनाया है, जो 802.11ad के मुकाबले फ़ास्ट है।

Li-Fi के लाभ:

LI-FI WI-FI के मुकाबले ज्यादा फ़ास्ट है रेडियो के आवृत्ति स्पेक्ट्रम 10000 गुना। ज्यादा सुरक्ष इसमें डेटा को इंटरसेप्ट नहीं किया जा सकता है। कोई भी अन्य network बिच में नही आता है रेडियो हस्तक्षेप से कोई प्रभाव नही पड़ता।

संवेदनशील इलेक्ट्रॉनिक्स में हस्तक्षेप नहीं कर सकता है, इसका उपयोग अस्पतालों एवं विमानों जैसे वातावरण में use करना आसान है।

किसी भी घर में तथा आस-पास की सभी लाइटों में LI-FI का use करने से, प्रौद्योगिकी एक ही वाईफाई राउटर के मुकाबले में कवरेज के ज्यादा क्षेत्र को जोड़ सकती है।

इसे भी पढ़े :

1 COMMENT